UP गेहूं खरीद किसान पंजीकरण ( रजिस्ट्रेशन) 2021 | ई-क्रय प्रणाली

यदि आप उत्तर प्रदेश के निवासी हैं और किसान वर्ग से हैं तो आपके लिए यह योजना काफी कारगर साबित हो सकती है। UP सरकार ने हाल ही में गेहूं की  खरीद के लिए किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण करने हेतु ऑनलाइन पोर्टल की शुरूआत की है। इस पोर्टल के माध्यम से उत्तर प्रदेश के किसान अपनी फसल को राज्य सरकार को बेच सकते हैं। किसानों को उत्तर प्रदेश ई क्रय प्रणाली यानी “ई उपार्जन पोर्टल” पर किसान पंजीकरण कर  सकते हैं और सीधा सरकार से जुड़ सकते हैं। किसान रवि फसल (गेहूं ) को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकेंगे ।

आइए जानते हैं कैसे उत्तर प्रदेश का किसान ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं? और कौन से किसान इस योजना के तहत अपनी फसल सीधी सरकार को बेच सकते हैं ? संपूर्ण विवरण जानने के लिए आप नीचे दिए गए विवरण को ध्यान पूर्वक पढ़ते रहिए।

 

UP Gehu Kharid Online Highlights

योजना का नामयूपी गेहूं खरीद,UP Gehu Kharid
योजना शुरू की गईउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा
योजना विभागकृषि विभाग उत्तर प्रदेश सरकार
पोर्टल  ई क्रय प्रणालीई उपार्जन पोर्टल
लाभार्थी होंगेराज्य का सभी किसान
लाभ से लाभ होगाअपना फसल ऑनलाइन न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकते हैं
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
ऑफिसियल लिंक्सhttps://eproc.up.gov.in

उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद किसान योजना के मुख्य उद्देश्य तथा विशेषताएं

 उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किए गए गेहूं खरीद किसान योजना के अंतर्गत किसान अब ई पोर्टल के माध्यम से अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। तथा अपनी फसल का ब्यौरा ऑनलाइन पोर्टल पर सबमिट कर सकते हैं। सरकार द्वारा निर्धारित MSP दर पर किसानों का गेहूं खरीदा जाएगा और पैसा तुरंत किसान के खाते में ट्रांसफर कर दिया जाएगा। जिसमें किसी भी बिचौलियों की आवश्यकता नहीं होगी और किसान सीधा अपनी फसल का अच्छा मुनाफा प्राप्त कर सकेंगे। इन्हीं उद्देश्यों को लेकर सरकार ने उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद योजना की पोर्टल की व्यवस्था शुरू की है। इस पोर्टल के माध्यम से  किसान अपना ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं। पंजीकरण के बाद अपनी फसल को राज्य सरकार के तहत रजिस्टर्ड एजेंसियों को न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP पर बेच सकते हैं।

ई पोर्टल के माध्यम से किसानों को बेहतरीन लाभ होने वाले हैं तथा इस पोर्टल की विशेषताएं और लाभ इस प्रकार से।

यदि किसान मंडी में अपनी फसल ले जाना चाहते हैं तो उन्हें सबसे पहले अपना ई क्रय प्रणाली यानी उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर टोकन प्राप्त करना होगा । टोकन प्राप्त करने के पश्चात ही किसान अपनी बारी आने पर मंडी में फसल ले जा सकेंगे। जिससे उनकी समय की बचत होगी और उन्हें पहले जाकर इंतजार नहीं करना होगा।

  • उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा गेहूं की खरीद के लिए 5500 खरीद केंद्र बनाए गए हैं साथ ही 55 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का टारगेट भी रखा गया है।
  • सरकार के द्वारा इस बार गेहूं की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 1925 रुपए प्रति क्विंटल रखा गया है ।
  • योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के केवल उन्हीं किसानों को दिया जाएगा जो अपने गेहूं की फसल को बेचना चाहते हैं।
  • किसानों का समय को बचेगा और अलग-अलग मंडी जाकर वापस लौट जाने की समस्या खत्म हो जाएगी।
  • किसानों के साथ गेहूं की खरीद में पारदर्शिता रहेगी तथा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद होगी।
  • गेहूं की खरीद होते ही किसानों के सीधे बैंक खाते में गेहूं कीमत जमा होगी।
  • किसानों को केंद्रीय मंडी के साथ जोड़ा जायेगा।
Update on UP Gehu Kharid Registration

 

उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021 आवश्यक दस्तावेज

 यदि आपने अभी उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी किए गए पोर्टल के माध्यम से अपने गेहूं की फसल को बेचने का निर्णय किया है तो आपके पास निम्न दस्तावेज होना आवश्यक

 किसानों के पास अपनी जमीन संबंधित जानकारी जैसे की खसरा ,खतौनी संख्या ,जमीन का रकबा तथा जितने जमीन पर गेहूं की खेती की गई उसकी जानकारी होनी आवश्यक है।

  • आधार कार्ड
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • अपने खेत की राजस्व अभिलेख से संबंधित जानकारी ।

 

 पंजीकरण करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश तथा महत्वपूर्ण सूचनाएं

  • रजिस्ट्रेशन करने वक्त किसानों को गेहूं तथा खेत का विवरण देना अनिवार्य है ।
  • किसानों को अपने खेत का विवरण खतौनी खसरा संख्या तथा गेहूं का रकबा भरने की आवश्यकता होगी ।
  • किसानों को आधार कार्ड ,बैंक अकाउंट पासबुक, राजस्व अभिलेखों इत्यादि के विवरण सही और सटीक दर्ज करने होंगे।
  • अगर किसान रजिस्ट्रेशन ड्राफ्ट को फिर से डाउनलोड करना चाहता है तो इसके लिए वह मोबाइल नंबर को दर्ज कर ड्राफ्ट पुनः प्रिंट कर सकता है ।
  • किसानों को उनके मोबाइल नंबर पर रजिस्ट्रेशन संबंधित सभी जानकारी भेज दी जाएगी ।
  • गेहूं बेचने के बाद किसान केंद्र प्रभारी से पावती पत्र अवश्य प्राप्त कर लें।
  • किसान पंजीकरण हेतु महत्वपूर्ण जानकारी :-
  • किसान पंजीकरण हेतु आवेदन करने के लिए उपरोक्त स्टेप 1 से स्टेप 6 तक पालन करना अनिवार्य है ।
  • कृपया ऑनलाइन किसान पंजीकरण करने से पूर्व “स्टेप 1. पंजीकरण प्रारूप” डाउनलोड करके प्रिंट कर लें एवं प्रिंट किये गए प्रारूप की जांच करके आवश्यक सूचनाएं भर लें।
  • किसान पंजीकरण में फसल (गेहूँ) हेतु उपयोग की जाने वाली सभी भूमियों का विवरण देना अनिवार्य है ।
  • भूमि विवरण के साथ खतौनी/खाता संख्या, प्लाट/खसरा संख्या, भूमि का रकबा (हेक्टेयर में) एवं फसल (गेहूँ) का रकबा (हेक्टेयर में) भरना अनिवार्य है ।
  • आधार कार्ड , बैंक पास बुक व राजस्व अभिलेखों का सही विवरण दर्ज करें ।
  • “स्टेप 1. पंजीकरण प्रारूप” भरने के पश्चात “स्टेप 2. पंजीकरण पपत्र” के विकल्प से ऑनलाइन आवेदन दर्ज कर लें ।
  • ऑनलाइन आवेदन दर्ज होने पर “पंजीकरण संख्या” नोट कर लें एवं “स्टेप 3. पंजीकरण ड्राफ्ट” से ड्राफ्ट आवेदन पत्र प्रिंट कर लें ।
  • पंजीकरण ड्राफ्ट में दर्ज सभी बिन्दुओं का पुनः निरीक्षण कर लें । मोबाइल संख्या देकर पंजीकरण ड्राफ्ट पुनः प्रिंट किया जा सकता है ।
  • आवेदन में दर्ज सभी बिन्दुओं का निरीक्षण करने के पश्चात यदि किसी संशोधन की आवश्यकता है तो “स्टेप 4. पंजीकरण संशोधन” से मोबाइल संख्या देकर आवेदन में संशोधन किया जा सकता है ।
  • यदि आवेदन का निरीक्षण करने के बाद कोई त्रुटी नहीं पाई जाती है तो “स्टेप 5. पंजीकरण लॉक” के विकल्प से आवेदन लॉक कर दें ।
  • आवेदन लॉक हो जाने के पश्चात “स्टेप 6. पंजीकरण फाइनल प्रिंट” के विकल्प से आवेदन का फाइनल प्रिंट ले कर सुरक्षित रख लें ।
  • जब तक आवेदन लॉक नहीं किया जाता है , किसान पंजीकरण स्वीकार नहीं किया जायेगा ।
  • इस वर्ष ओ ० टी ० पी ० (O.T.P) आधारित पंजीकरण की व्यवस्था की गयी है , जिसके लिए किसान बन्धु पंजीकरण के समय अपना वर्तमान मोबाइल न ० ही अंकित कराये एस ० एम ० एस ० द्वारा प्रेषित ओ ० टी ० पी ० (O.T.P) को भरकर पंजीकरण प्रकिया को पूरा किया जा सकें ।
  • 100 किवंटल से अधिक विक्रय हेतु उपजिलाधिकारी से ऑनलाइन सत्यापन कराया जायेगा । चकबन्दी के ग्रामों में बेचीं जाने वाली मात्रा का शत प्रतिशत सत्यापन कराया जायगा।
  • जो कृषक खरीफ विपणन वर्ष 2020 -21 में धान खरीद हेतु पंजीकरण करा चुके है , उन्हे गेहूं विक्रय हेतु पुनः पंजीकरण कराने की आवश्यता नहीं है , संशोधन कर या बिना संशोधन के पुनः लॉक कराना होगा ।
  • गेहूं विक्रय के समय पंजीयन प्रपत्र के साथ कम्प्यूटराइज़्ड खतौनी , फोटोयुक्त पहचान पत्र , बैंक के पासबुक के प्रथम पृष्ठ के छायाप्रति एंव आधार कार्ड साथ लाये ।
  • पंजीकरण में पी ० एफ ० एम ० एस० से बैंक खाता सत्यापित हो गया है ।
  • गेहूं विक्रय के उपरान्त केन्द्र प्रभारी से रसीद अवश्य प्राप्त कर ले ।
  • उत्तर प्रदेश किसान पंजीकरण 2021 ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया
  •  ऑनलाइन आवेदन करने के लिए अब नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करें।
  •  सर्वप्रथम किसान ऑफिशल पोर्टल https://eproc.up.gov.in/Uparjan/Home_Reg.aspx पर लॉगिन करें।
  • Home Page पर आपको “गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण”  लिंक पर क्लिक करें।
  • किसान रजिस्ट्रेशन फॉर्म  को पूरा ध्यान पूर्वक भरे।
  •  यदि आप किसान ई उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करने से पहले पंजीकरण प्रारूप यानी पंजीकरण के डुप्लीकेट फॉर्म को भर कर चेक करना चाहते हैं तो इसका भी प्रावधान किया गया है ।
  • पंजीकरण प्रारूप के पीडीएफ फॉर्मेट को डाउनलोड करके देख सकते हैं।
  •  इस प्रारूप फॉर्म को देखकर आप अपने आवेदन को सबमिट कर सकते हैं।
  •  अगर आप किसी प्रकार का संशोधन करना चाहते हैं तो भी आप इसी पोर्टल पर संशोधन कर सकते हैं और अपना ईटोकन प्राप्त कर सकते हैं.

सरकारी योजनाओ के लिए यहाँ क्लिक करे

frequently Asked question

Q.  यूपी गेहूं खरीद पोर्टल क्या है?

Ans.  उत्तर प्रदेश के किसान  ऑनलाइन पोर्टल पर अपनी गेहूं की फसल का रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं और सरकार को सीधे बेच सकते हैं। इससे सरकार द्वारा निर्धारित एमएसपी पर गेहूं की खरीद की जाएगी।

Q.  यूपी गेहूं खरीदी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

Ans.  किसान आसानी से पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं इसके लिए आवश्यक प्रक्रिया इसी लेख में ऊपर दी जा चुकी है अतः आवेदक दी गई प्रक्रिया को फॉलो कर के आसानी से अपना राजस्थान सबमिट कर सकते हैं।

Leave a Reply